सरकार की ‘रॉकिंग’ एंड ‘शॉकिंग’ पहल, अब ‘रॉक बैंड’ भरेगा देश की रगों में राष्ट्रभक्त

सरकार की ‘रॉकिंग’ एंड ‘शॉकिंग’ पहल, अब ‘रॉक बैंड’ भरेगा देश की रगों में राष्ट्रभक्त

शिखा पाण्डेय । Navpravah.com केंद्र सरकार ने देश के युवाओं में देशभक्ति की भावना भरने के लिए एक अनोखा तरीका निकाला है। अब देशभर के केंद्रीय विश्वविद्य...

अमेरिका में चक्रवाती तूफान का खतरा, लोगो में डर का माहौल
फिर दो टुकड़ों में बंटेगा पाकिस्तान !
पहलाज निहलानी बाहर, प्रसून जोशी सेंसर बोर्ड के नए अध्यक्ष

शिखा पाण्डेय । Navpravah.com

केंद्र सरकार ने देश के युवाओं में देशभक्ति की भावना भरने के लिए एक अनोखा तरीका निकाला है। अब देशभर के केंद्रीय विश्वविद्यालय और आईआईटीज़ में ‘रॉक बैंड’ के माध्यम से युवाओं की रगों में देशभक्ति प्रवाहित की जायेगी। केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रालय ने आजादी के 70 साल और भारत छोड़ो आंदोलन के 75 साल पूरा होने के उपलक्ष्य में इन सभी संस्थानों को ऐसे कार्यक्रम आयोजित कराने के लिए कहा है। उधर विपक्ष व भाजपा की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने सरकार के इस फैसले पर प्रश्नचिन्ह लगाया है।

केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावडेकर का कहना है कि युवा पीढ़ी को आकर्षित करने के लिए रॉक बैंड को शामिल करने का फैसला लिया गया है। उनके द्वारा देशभक्ति के गीत गाने का कार्यक्रम वॉलंटरी है। मंत्रालय के मुताबिक कुछ चुने हुए ‘रॉक बैंड्स’ के सदस्य संस्थानों में अपने संगीत की सरिता बहाएंगे। सरकार का कहना है कि रॉक बैंड का चयन ‘राष्ट्रीय फिल्म विकास निगम’ के जरिए केंद्रीय सूचना प्रसारण मंत्रालय करेगा।

एक तरफ सरकार इस पहल को छात्रों के बीच देशभक्ति की भावना जागृत करने का कार्यक्रम बता रही है, तो दूसरी तरफ विपक्ष के साथ-साथ सरकार की सहयोगी शिवसेना भी इसका विरोध करने में जुटी है। कांग्रेस और शिवसेना ने आरोप लगाया है कि निजी कंपनी को फायदा पहुंचाने के लिए सरकार यह भ्रष्टाचार कर रही है।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने प्रश्न उठाते हुए कहा है, “मानव संसाधन मंत्रालय ने एक निजी कंपनी को पैसे कमाने के लिए ये शिगूफा छोड़ा है। प्राइवेट बैंड भेजने से क्या देशभक्ति समझ में आएगी? कोई बैंड आकर छात्रों को देशभक्ति कैसे समझाएगा?” वहीं शिवसेना प्रवक्ता मनीषा कायंदे ने कहा कि देशभक्ति की भावना छात्रों में जगाना स्वागत योग्य है, लेकिन उसके लिए किसी कंपनी को कांट्रेक्ट देना नाजायज़ है।

उधर मानव संसाधन मंत्रालय ने इस आरोप पर तीखी प्रतिक्रिया दी है। केंद्रीय मानव संसाधन राज्यमंत्री महेंद्र नाथ पांडेय ने कांग्रेस पर सवाल उठाते हुए कहा कि विरोध वो कर रहे हैं, जिन्होंने लंबे समय तक देश पर राज किया और 15 अगस्त, 26 जनवरी को केवल रस्म अदायगी में तब्दील कर दिया। आपको बता दें कि सरकार पहले भी इस तरह के कार्यक्रमों को लेकर होने वाले विरोधों का सामना कर चुकी है।



COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0