सन 2019 तक मुंबई के हर वार्ड से गुजरेगी मेट्रो- देवेंद्र फडणवीस

सन 2019 तक मुंबई के हर वार्ड से गुजरेगी मेट्रो- देवेंद्र फडणवीस

Bureau@Navpravah.com महाराष्ट्र के युवा मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस का कहना है कि सन 2019 तक मेट्रो रेल मुंबई के हर वार्ड से होकर गुजरेगी। मेट्रो रेल...

मोदी ने कहा, “भाइयों-बहनों सवा सौ करोड़ लोगों का प्यार बोलता है”
नहीं बनवाया है ड्राइविंग लाइसेंस, तो बुरे फंसे
WhatsApp का नया फीचर, अब कर सकेंगे पेमेंट
Bureau@Navpravah.com
महाराष्ट्र के युवा मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस का कहना है कि सन 2019 तक मेट्रो रेल मुंबई के हर वार्ड से होकर गुजरेगी। मेट्रो रेल के तानेेबाने के साथ ही अगले साल नवंबर तक पूरी मुंबई सीसीटीवी कैमरे की जद में होगी जबकि इस नवंबर में दक्षिण मुंबई का इलाका सीसीटीवी की जद में आ जाएगा।
मुख्यमंत्री फडणवीस ने बीते 31 अक्टूबर को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी और शिवसेना के बिना महाराष्ट्र में पहली बार बीजेपी सत्तासीन हुई थी। आगामी 31 अक्टूबर को फडणवीस का एक साल का कार्यकाल पूरा हो रहा है। उन्होंने सरकारी आवास वर्षा में कुछ चुनिंदा पत्रकारों के साथ अपने एक साल के कार्यकाल की उपलब्धियों को साझा किया। इस दौरान उन्होंने बताया कि चुनाव के दौरान तैयार किए गए विजन डाक्यूमेंट के तहत काम शुरु किया गया हैं। आगामी पांच साल में बदलाव नजर आएगा। सरकार की योजना है कि सन 2019 तक मुंबई के हर वार्ड में मेट्रो रेल दौड़ेगी। इस नवंबर में दक्षिण मुंबई सीसीटीवी के कैमरे लग जाएंगे और अगले साल नवंबर तक पूरी मुंबई कैमरे की जद में होगी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छ भारत के सपनों को साकार करने के लिए महाराष्ट्र के शहरों को खुले शौच से मुक्त किए जाने की योजना शुरु है। फडणवीस ने कहा कि सन 2017 तक महाराष्ट्र देश का पहला राज्य होगा जो खुले में शौच पूरी तरह बंद हो जाएगा।
सूखे से निपटने के लिए कारगर योजना है जलयुक्त शिवार-
फडणवीस का कहना है कि महाराष्ट्र में सूखे से परेशान किसानों की आत्महत्या रोकने में जलयुक्त शिवार योजना कारगर साबित होगी। तीन साल में सूबे का कृषि संकट काफी हद तक समाप्त कर देंगे। राज्य में इजराईली पैटर्न यानि कम जगह में ज्यादा उत्पाद की खेती भी शुरु की जाएगी। राज्य में 1059 मौसम स्टेशन बनाएंगे जिससे किसानों को यह जानकारी मिलेगी कि उनके लिए कब और कौन सी फसल फायदेमंद रहेगी।
उपहास के दायरे से बाहर निकल चुके हैं-
एक साल के कार्यकाल  बीते एक साल में वे उपहास के दायरे से बाहर निकल चुके हैं। अब दो साल तक विरोध का स्टेज होगा। इस विरोध के  दायरे को भी आसानी से पार करेंगे। मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद शुरुआत में लोग कहते हैं कि ये नया है। उपहास उड़ातेे हैं लेकिन, अब मैं उस दायरे से बाहर निकल चुका हूं। विपक्षी नेताओं को लग रहा है कि जम गया है तो विरोध का स्टेज शुरु होगा। अब दो साल विरोध होगा। लेकिन, जब ठीक से काम करेंगे तब लोगों में विश्वास बढ़ेगा और जनमान्यता मिलेगी।
सकारात्मक राजनीति में भरोसा-
भाजपा-शिवसेना गठबंधन सरकार का नेतृत्व कर रहे फडणवीस यह जानते हैं कि शिवसेना ने विरोध का जो तरीका अपना रखा है उसमें विशेष परिवर्तन की उम्मीद नहीं है फिरभी उनका दावा है कि सरकार पांच साल का कार्यकाल पूरा करेंगी। फडणवीस ने कहा कि मेरा मूल स्वभाव कोई राजनीतिक नहीं है कि इसको जवाब दूं या उसको खत्म करूं। मैं काम करता रहता हूं। सकारात्मक राजनीति में विश्वास रखता हूं और उसी की बदौलत यहां तक पहुंचा हूं।
शिवसेना के विरोध के बावजूद पांच साल पूरा करेगी सरकार-
हाल के दिनों में शिवसेना के उग्र हिंदुत्ववाद की भूमिका अपनाने के  मुद्दे पर देवेन्द्र फडणवीस शिवसेना का नाम लिए बिना कहते हैं कि राजनीतिक फायदे के लिए अड़चन पैदा किया जाता हैं लेकिन जनता सब जानती है। मुंबई में मराठी-गुजराती, मराठी-उत्तरभारतीय विवाद इसी की देन होती है। बीजेपी का शिवसेना के साथ 25 साल का साथ रहा है। अब गठबंधन किया है तो सरकार चलानी पड़ेगी।



COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0